यदि मैं शिक्षामंत्री होता

कल्पना करना और अपने भावी जीवन के लिए मधुर स्वप्न संजोना मानव की सहज प्रवृत्ति है। एक विद्यार्थी होने के कारण जब आज मैं देश में चल रही शिक्षा पद्धिति पर नजर डालता हूँ तो मन खिन्न हो उठता है। मुझे लगता है कि आज देश में जितनी दुर्दशा शिक्षा की हो रही है, उतनी संभवत: किसी अन्य वस्तु की नहीं। लार्ड मैकाले ने भारत में स्वार्थवृत्ति के कारण जिस शिक्षा पद्धिति की शुरुआत की, वाही आज तक चल रही है। मैंने पढ़ा है कि शिक्षा पद्धिति में सुधर के लिए न जाने कितने आयोग बने, कितनी ही समितियां बनी, पर इनके मूल ढांचे में कोई परिवर्तन ही नहीं हुआ। इसीलिए मेरे मन में एक विचार आया कि यदि मैं देश का शिक्षा मंत्री बन जाऊँ, तो इन दोषों को सुधारने में कोई कसार नहीं छोड़ूगा।

Post a Comment

0 Comments